Meta Description Kya Hota Hai ? Meta Description सम्पूर्ण जानकारी Best Guide 2022

Spread the love

Meta Description Kya Hota Hai : – आज हम Meta Tag Kya Hai, Meta Tag को Kaise Check Kare?, Meta Description कितने प्रकार के होते है?, SEO Friendly Meta Description Kaise Likhe?, Meta Description क्यों जरुरी होता है? आदि के बारे में बात करेंगे –

आ गए सारे नए ब्लॉगर? Meta Description क्या है? मैं जनता हु नए ब्लॉगर का ब्लॉग गूगल में रैंक नहीं करता है मेटा डिस्क्रिप्शन ब्लॉग की रैंकिंग में एक बहुत बड़ी भूमिका निभाता है

यह आपकी पोस्ट को एक वैल्यू देता है सभी पुराने ब्लॉगर इन छोटी छोटी बातो को जानते है और इनसे अपनी ब्लॉग पोस्ट की रैंकिंग को Improve करते है गूगल आपकी वेबसाइट या वेब पेज के मेटा डिस्क्रिप्शन को देखता है जिससे उसे आपकी वेबसाइट या वेब पेज के विषय का पता चलता है

Meta Description Kya Hota Hai ? Meta Description सम्पूर्ण जानकारी Best Guide 2022

आपकी वेबसाइट या वेब पेज का मेटा डिस्क्रिप्शन सर्च इंजन गूगल आपके वेब पेज के टाइटल के नीचे दिखता है सर्च इंजन से आने वाले हर यूजर को आपका यह मेटा डिस्क्रिप्शन दिखता है जिसको पढ़कर यूजर आपके वेब पेज पर आते है

ब्लॉग का मेटा डिस्क्रिप्शन On Page SEO का पार्ट होता है ब्लॉग के SEO के लिए यह मेटा डिस्क्रिप्शन बहुत जरुरी होता है चलिए अब हम What is Meta Description in Hindi के बारे में बात करते है

Meta Description Kya Hota Hai? | What is Meta Description in Hindi

Meta Description” आपके वेब पेज के विषय का एक छोटा सा पैराग्राफ जोकि सर्च इंजन में आपके वेब पेज के टाइटल के नीचे दिखाया जाता है उस वेब पेज का मेटा डिस्क्रिप्शन कहलाता है  यह एक मेटा टैग होता है जोकि वेब पेज के HTML कोड में लिखा जाता है यह एक Snippet Code होता है इसको वेबसाइट के Source कोड में लगाया जाता है

ब्लॉग के लिए यह टैग बहुत इम्पोर्टेन्ट टैग होता है मेटा डिस्क्रिप्शन सर्च इंजन के रिजल्ट पेज से आपके वेब पेज पर ज्यादा से ज्यादा यूजर को लाता है जिससे आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का CTR सही रहता है

Meta Description Kya Hota Hai ? Meta Description सम्पूर्ण जानकारी Best Guide 2022

अगर आप खुद मेटा डिस्क्रिप्शन को नहीं डालते है तब सर्च इंजन गूगल आटोमेटिक ही आपके वेब पेज के कंटेंट में से कुछ भाग को ले लेता है यह वेबसाइट के On Page SEO का एक फैक्ट होता है

Meta Tag Kya Hai ? | What is a Meta Tag in Hindi

“Meta Tag” में मेटा टाइटल ( टाइटल टैग ) और मेटा डिस्क्रिप्शन आते है ब्लॉग पोस्ट को रैंक करने में यह अपनी अपनी भूमिका On Page SEO में निभाते है यह दोनों टैग यूजर को सर्च इंजन में रिजल्ट पेज पर दिखाई देते है जिससे सर्च इंजन के रिजल्ट पेज से यूजर या विजिटर आपकी ब्लॉग पोस्ट पर विजिट करते है

यह टैग एक HTML कोड्स होते है जिनको कोडिंग में Head सेक्शन में लिखा जाता है यह टैग सर्च इंजन के बोट्स को आपके वेब पेज की इनफार्मेशन देते है

Meta Tag Ko Kaise Check Kare?

“Meta Tag” को चेक करने के लिए आपको उस वेब पेज में माउस के राईट बटन को दबाना है इसके बाद आपको View Page Source पर क्लिक करके अपने कीबोर्ड में Ctrl + F दबाना है इसके बाद आपको सर्च बॉक्स में Meta Title या Meta Description लिख कर देख सकते है

Meta Description कितने प्रकार के होते है?

मेटा टैग मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते है जैसे – Meta Title Tag, Meta Description, Robots Tag.

Meta Title Tag – इसमें वेब पेज का Main डाटा वेब पेज के टाइटल टैग के रूप में होता है जिसमे आपका Main Keyword होता है

Meta Description – इस टैग में वेब पेज के टॉपिक से रिलेटेड शोर्ट डिस्क्रिप्शन होता है जिसमे आपका Main Keyword होता है

Robots Tag – इस टैग में सर्च इंजन के बोट्स को वेबसाइट या उसके वेब पेज की इनफार्मेशन को क्रॉल करने के लिए परमिशन दी जाती है

SEO Friendly Meta Description Kaise Likhe?

SEO Friendly Meta Description लिखने के लिए इन बातो का रखे ध्यान जैसे –

  • मेटा डिस्क्रिप्शन में महत्वपूर्ण Focus Keyword का उपयोग करे
  • मेटा डिस्क्रिप्शन में Keyword Stuffing न करे
  • मेटा डिस्क्रिप्शन को सरल भाषा में लिखे
  • मेटा डिस्क्रिप्शन में आपके विषय का छोटे रूप में स्पष्ठ वर्णन होना चाहिए
  • मेटा डिस्क्रिप्शन को 135 – 160 Characters तक रखे
  • मेटा डिस्क्रिप्शन में शब्दों को रिपीट बिलकुल न करे
  • अपने कंटेंट के अनुसार अपना मेटा डिस्क्रिप्शन लिखे
  • अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में गलत जानकारी न दे
  • मेटा डिस्क्रिप्शन में स्कीमा मार्कअप का उपयोग करे
  • हर वेब पेज का मेटा डिस्क्रिप्शन अलग अलग रखे
  • मेटा डिस्क्रिप्शन में आकर्षण शब्दों का उपयोग करे

Focus Keyword – SEO में फोकस कीवर्ड की वैल्यू हर एक सफल ब्लॉगर जानता है मेटा डिस्क्रिप्शन में फोकस कीवर्ड का उपयोग आपके वेब पेज के विषय के टारगेट कीवर्ड को बताता है जिससे यूजर और सर्च इंजन को पता चलता है कि इस वेब पेज पर क्या क्या मिलेगा

Keyword Stuffing – आपको अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में Keywords की Stuffing नहीं करनी चाहिए इससे सर्च इंजन आपकी वेबसाइट के वेब पेज को अच्छी रैंकिंग नहीं देता है

Use Simple Language – अगर आप अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में सरल भाषा का उपयोग नहीं करेंगे तब सर्च इंजन के ज्यादातर यूजर को आपके वेब पेज के कंटेंट के बारे में कुछ ठीक से समझ नहीं आएगा इसीलिए जितना हो सके सरल भाषा का उपयोग करे

Make Small Description – आपको अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में अपने वेब पेज के पुरे कंटेंट को एक शोर्ट पैराग्राफ में ऐसे बनाना है जिससे ज्यादा से ज्यादा यूजर आपकी वेबसाइट के उस वेब पेज पर आ जाए

Description Length – आपको अपने वेब पेज के मेटा डिस्क्रिप्शन की लम्बाई को सर्च इंजन के अनुसार 135 – 160 Characters तक ही रखना है इससे ज्यादा बड़ा मेटा डिस्क्रिप्शन रखने पर यह SEO Friendly नहीं रह जाता है और न ही सर्च इंजन में दिखाया जाता है

Don’t Repeat Words – आपको अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में शब्दों को रिपीट नहीं करना है इससे आपके मेटा डिस्क्रिप्शन की लम्बाई बढती है और आप सही से टॉपिक को शोर्ट में एक्सप्लेन नहीं कर पाते है

Content Match – आपको अपनी ब्लॉग पोस्ट के कंटेंट से सम्बंधित मेटा डिस्क्रिप्शन ही लिखना है

Wrong Information – अगर आप अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में किसी भी प्रकार की कोई गलत इनफार्मेशन देते है तो ऐसा न करे क्योकि इसे आपकी वेबसाइट पर यूजर आयेंगे और चले जायेंगे जिससे आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का बाउंस रेट भी बढ़ जायेगा

Meta Description Kya Hota Hai ? Meta Description सम्पूर्ण जानकारी Best Guide 2022

Schema – अगर आपको कोडिंग की जानकारी है तब आप अलग से कोडिंग के जरिये मेटा डिस्क्रिप्शन लगाने के लिए स्कीमा मार्कअप का उपयोग भी कर सकते है नहीं तो आप SEO के प्लगइन Rank Math या Yoast SEO Plugin का उपयोग कर सकते है

Different Meta Description Pages – आपको अपनी वेबसाइट के हर वेब पेज के मेटा डिस्क्रिप्शन को अलग अलग रखना चाहिए नहीं तो इससे सर्च इंजन और यूजर Confuse होते है

Attractive Words – आपको अपनी वेबसाइट के मेटा डिस्क्रिप्शन को एक दम आकर्षित बनाना है क्योकि जितना आकर्षण डिस्क्रिप्शन होगा उतना ज्यादा आपको इसका लाभ मिलेगा इसीलिए कोशिश करे कि अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में आकर्षण शब्दों का उपयोग करे

Meta Description की लेंथ कितनी होनी चाहिए?

सर्च इंजन गूगल पहले मेटा डिस्क्रिप्शन की लेंथ को बहुत छोटा रखता था लेकिन अब सर्च इंजन गूगल ने वर्ष 2017 में मेटा डिस्क्रिप्शन की लेंथ को 160 characters  से बढा कर 275 Characters तक कर दिया है

Meta Description क्यों जरुरी होता है?

मेटा डिस्क्रिप्शन आपकी वेबसाइट की ब्लॉग पोस्ट की सर्च इंजन में रैंकिंग को बढ़ता है क्योकि यह एक मेटा टैग होता है जो सर्च इंजन को आपके वेब पेज के कंटेंट को शोर्ट में समझा देता है

यह एक तरह का ऐड होता है जिसे देखकर या पढ़कर यूजर आपकी ब्लॉग पोस्ट को पढ़ते है यह आपके Focus Keyword को रैंक करने में मदत करता है यह आपकी ब्लॉग पोस्ट की शोर्ट summary होती है

Meta Description Kya Hota Hai ? Meta Description सम्पूर्ण जानकारी Best Guide 2022

इससे आपकी वेबसाइट के वेब पेज पर सर्च इंजन का Organic Traffic बढ़ता है जिससे आपकी वेबसाइट के Clicks भी इनक्रीस होते है मेटा डिस्क्रिप्शन के Add होने से सर्च इंजन आपकी ब्लॉग पोस्ट को ज्यादा बूस्ट देता है

एक से ज्यादा पेज के लिए मेटा डिस्क्रिप्शन कैसे बनाए?

आपकी वेबसाइट के जो पेज सर्च इंजन में अच्छा रैंक कर रहे है आप उनके मेटा डिस्क्रिप्शन को add कर सकते है इसके साथ ही आप अपनी वेबसाइट के मुख्य पेज ( होम पेज ) के मेटा डिस्क्रिप्शन को Add कर सकते है

इसके साथ ही अपनी हर नयी पोस्ट में मेटा डिस्क्रिप्शन को जरुर Add करे और एक से ज्यादा पेज का मेटा डिस्क्रिप्शन अलग अलग बनाये

FAQ

मेरा मेटा डिस्क्रिप्शन क्या होना चाहिए?

मेरा मेटा डिस्क्रिप्शन मेरी ब्लॉग पोस्ट के विषय का एक शोर्ट और आकर्षण पैराग्राफ होना चाहिए जिसकी लम्बाई 160 Characters तक होनी चाहिए और उसमे मेरी ब्लॉग पोस्ट का फोकस कीवर्ड भी होना चाहिए

मेटा डिस्क्रिप्शन कैसे लिखें?

मेटा डिस्क्रिप्शन लिखने के लिए आप वर्डप्रेस में SEO प्लगइन जैसे – Rank Math, Yoast SEO आदि का उपयोग कर सकते है या आप कोडिंग के जरिये भी अपने मेटा डिस्क्रिप्शन के HTML कोड को मनुआली अपने वेब पेज का वेबसाइट के Head सेक्शन में लगाकर भी लिख सकते है

आप अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में अपने फोकस कीवर्ड का उपयोग करते हुए इसके लेंथ को 160 Characters तक रख सकते है

मेटा डिस्क्रिप्शन में कितने अक्षर होने चाहिए?

हमारे मेटा डिस्क्रिप्शन में 50 – 160 Characters होने चाहिए

आप मेटा डिस्क्रिप्शन कहां लिखते हैं?

हम मेटा डिस्क्रिप्शन को कोडिंग के जरिये अपने वेब पेज के Head सेक्शन में लिखते है जोकि सर्च इंजन में हमारे उस वेब पेज के टाइटल टैग के ठीक नीचे दिखाया जाता है

मेटा टाइटल और डिस्क्रिप्शन क्या होता है?

मेटा टाइटल और मेटा डिस्क्रिप्शन दोनों किसी भी वेबसाइट या वेब पेज के मेटा टैग होते है जोकि सर्च इंजन को वेब पेज का वेबसाइट के बारे में जानकारी देते है

सर्च इंजन हर वेब पेज का मेटा टाइटल और मेटा डिस्क्रिप्शन अपने सर्च इंजन के रिजल्ट पेज में दिखता है जिससे ज्यादा से ज्यादा यूजर सर्च इंजन से आपके वेब पेज पर विजिट करते है

क्या मेटा डिस्क्रिप्शन बाद में बदला जा सकता है?

हाँ आप मेटा डिस्क्रिप्शन बाद में कोडिंग और प्लगइन दोनों के माध्यम से बदल सकते है

क्या मेटा डिस्क्रिप्शन कंटेंट के समान ही होना चाहिए?

नहीं आप अपने मेटा डिस्क्रिप्शन को अपने कंटेंट से अलग भी रख सकते है लेकिन उसमे आपके फोकस कीवर्ड का होना जरुरी होता है

आपने क्या सिखा?

आज मैंने आपको Meta Description Kya Hota Hai, Meta Tag Kya Hai, Meta Tag को Kaise Check Kare?, Meta Description कितने प्रकार के होते है?, SEO Friendly Meta Description Kaise Likhe?, Meta Description क्यों जरुरी होता है? आदि के बारे में सभी जानकारी दी है

मुझे उमीद है कि आप सभी को “Meta Description” के बारे में सब कुछ समझ आ गया होगा फिर भी अगर आपका कुछ सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में मुझसे पूछ सकते है साथ ही आर्टिकल को शेयर जरुर करे

Credit By = itznitinsoni


Spread the love

Leave a Comment