शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र क्या है? ( इस आयु में करें ) Best Guide 2023

शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र क्या है? ( इस आयु में करें ) Best Guide 2024

Right Age To Have Physical Relations in Hindi:शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र क्या है? आज के समय में भारत के हर युवा के मन में यह सवाल रहता है लेकिन भारत के युवा अपने इस सवाल को खुलकर नहीं बोल पातें है जैसे जैसे दुनिया में टेक्नोलॉजी का विकास हो रहा है

वैसे वैसे लोग भी अपने हर कार्य को हिसाब से करने की समझ रखते है यहाँ जब बात रिलेशनशिप में शारीरिक संबंध बनाने की आती है तो युवाओ के मन में शारीरिक संबंध बनाने के लिए सही उम्र जानने की इच्छा रहती है हाँ, कुछ लोग ऐसे होतें है जो यह सब नहीं समझते है

लेकिन अधिकतर लोग आजकल फैक्ट्स और रियलिटी की नजर से सभी चीजो को देखते है यह भी सच है कि कुछ चीजे ऐसी होती है जो मनुष्य की उम्र के हिसाब से सही रहती है क्योकि ऐसे कामो को कम या अधिक उम्र में करने के कारण इसका नकारात्मक प्रभाव पुरे जीवन भर देखने को मिलता है

शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र क्या है? ( इस आयु में करें ) Best Guide 2023

हाँ, मैं समझ सकता हूँ कि कुछ लोग ऐसे होतें है जिनमे मन में यह बात होगी कि लगभग हर देश में शारीरिक संबंध बनाने के लिए एक न्यूनतम उम्र तय की होती है तो हमे उसके हिसाब से चलना चाहिए

लेकिन दोस्तों यह सच है कि अलग अलग देशो में शारीरिक संबंध बनाने की न्यूनतम उम्र तय है जिसमे अधिकतर देशो में यह 18 वर्ष है तो अब सवाल यह उठता है कि क्या हमे 18 वर्ष के बाद शारीरिक सम्बन्ध बनाने चाहिए? और किस उम्र की लड़कियां शारीरिक संबंध बना सकती है?

क्या हमे 18 वर्ष के बाद शारीरिक सम्बन्ध बनाने चाहिए?

Table of Contents

हम सब जानतें है कि हमारे भारत देश के कानून में भी शारीरिक संबंध बनाने की न्यूनतम उम्र 18 वर्ष है अथार्थ कानून के अनुसार 18 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लड़का और लड़की अपनी इच्छा के अनुसार शारीरिक संबंध बनाने के लिए पूर्ण रूप से स्वतंत्र है

यही कारण है कि 18 वर्ष के बाद भारत में लड़का और लड़की शादी कर सकतें है जिसके बाद वह अपनि इच्छा के अनुसार शारीरिक संबंध बना सकते है यह भारत में एक ऐसा तरीका होता है जो सामाजिक और क़ानूनी रूप से सही होता है

जो मनुष्य ( लड़का और लड़की ) एक दुसरे से प्यार करतें है वह 18 वर्ष की उम्र के बाद शादी कर सकतें है जिसके बाद उनका व्यवाहिक जीवन एक दुसरे के साथ जीवन भर के लिए शुरू हो जाता है

क्या बिना शादी के शारीरिक संबंध बनाना सही है? ( क्या शादी से पहले शारीरिक संबंध पाप है? )

शादी के बाद लड़का और लड़की को एक दुसरे के साथ शारीरिक संबंध बनाने का पूर्ण रूप से अधिकार होता है लेकिन हर मनुष्य अपने जीवन में अपनी इच्छा के अनुसार अपने पसंदीदा व्यक्ति के साथ संबंध बनाने का पूर्ण अधिकार रखता है

लेकिन उसकी न्यूनतम उम्र शारीरिक संबंध बनाने के लिए क़ानूनी रूप से पुरी होनी चाहिए अथार्थ आप यह बोल सकते है कि शादी से पहले अगर दो व्यक्ति जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है वह अपनी सहमति से एक दुसरे के साथ संबंध बना सकतें है

अथार्थ दो प्यार करने वाले लोग जो कि एक दुसरे के बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड है वह एक दुसरे के साथ अपनी सहमति से शारीरिक संबंध बना सकतें है लेकिन उनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए लेकिन इसके सही होने या न होने का निर्णय लड़का और लड़की के ऊपर निर्भर करता है

क्योकि शादी के बाद लड़का और लड़की सामाजिक और क़ानूनी रूप से पति पत्नी बन जातें है जिसके कारण उनको एक दुसरे के साथ शारीरिक संबंध बनाने का पूर्ण अधिकार होता है लेकिन शादी के बिना भारतीय समाज ऐसे शारीरिक संबंध बनाने की अनुमति नहीं देता है

शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र क्या है?

शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र 18 से 25 वर्ष में रहती है क्योकि यह एक ऐसे आयु सीमा रहती है जिसमे हर मनुष्य अथार्थ लड़का और लड़की पुरी तरह से शारीरिक संबंध बनाने के लिए समझदार होतें है इस उम्र में मनुष्य को शारीरिक संबंध बनाने की शिक्षा का भी अच्छा ज्ञान रहता है

क्योकि क़ानूनी रूप से उनको अपनी इच्छाओ के अनुसार शारीरिक संबंध बनाने का पूरा अधिकार होता है इसीलिए इस आयु सीमा में मनुष्य शारीरिक संबंध बनाने का पूर्ण रूप से जवाबदेह भी होते है

लेकिन आजकल भारत के युवा शारीरिक संबंध से पहले खुद को सफल बनाने के बारे में अधिक सोचतें है ऐसे लोग पहले अपने करियर को बनाते है जिसके बाद वह शादी, शारीरिक संबंध और परिवार के बारे में सोचतें है ऐसे लोग 25 से 30 वर्ष की उम्र में सबसे अधिक शारीरिक संबंध बनातें है

तो अगर आप ऐसे लोगो में से है जो पहले अपने करियर के ऊपर ध्यान देना चाहते है अथार्थ खुद को सफल बनाना चाहते है तो यह काम आप 18 से 30 वर्ष की उम्र के बीच में कर सकतें/सकती है जिसके बाद आप किसी अच्छे जीवनसाथी के साथ शादी करके अपने व्यवाहिक जीवन को शुरु कर सकते है

ऐसे लोगो को अपने भविष्य के बारे में अधिक सोचना नहीं पड़ता है लेकिन जो लोग कम उम्र में शादी करतें है वह परिवार और जिम्मेदारी के कारण खुद को किसी एक करियर में सफल नहीं बना पातें है जिनको जीवनभर भविष्य में आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ता है

शारीरिक संबंध बनाने में इच्छा की क्या भूमिका है?

हाँ, यह सच है कि लड़का और लड़की अपनी इच्छा के अनुसार शारीरिक संबंध बना सकतें है क्योकि यह उनकी ख़ुशी के ऊपर पुरी तरह निर्भर करता है शारीरिक संबंध बनाने से दो लोगो के बीच प्यार बढ़ता है

यह व्यवाहिक रिश्ते में हमेशा एक दुसरे के पास रहने, उससे प्यार करने, दिल में जगह बनायें रखने के लिए महत्वपूर्ण होता है जब लड़का और लड़की शादी के बंधन में बंध जातें है तो उनके ऊपर कई तरह की जिम्मेदारी होती है

जिन जिम्मेदारी के कारण भारत में अधिकतर शादीशुदा लोग शारीरिक संबंध को कम कर देते है जब हमारी रिसर्च हुई तो उसमे हमे पता चला कि शादी के बाद लगभग एक साल के अंदर लड़का और लड़की को शारीरिक संबंध बनाने में अधिक रूचि रहती है

लेकिन उम्र के साथ साथ उनमे शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा कम होने लगती है हाँ, कुछ लोग में उम्र बढ़ने के साथ बीमारियाँ बढ़ने लगती है जिसके कारण वह शारीरिक संबंध बनाना कम कर देते है परन्तु साधारण भाषा में शारीरिक संबंध को समझा जाए

तो शारीरिक संबंध बनाने का मतलब अपने साथी ( लाइफपार्टनर ) के साथ अच्छा समय बिताना होता है अथार्थ यह कुछ ऐसे पल होतें है जिसमे पति पत्नी एक दुसरे के साथ कुछ यादगार पल जीते है यह उनके व्यवाहिक जीवन में उन दोनों के बीच प्यार को बढाते है

शारीरिक संबंध बनाने के लिए कानून क्या कहता है? ( क़ानूनी सलाह )

पुरी दुनिया में कई सारे देश है जिनमे शारीरिक संबंध बनाने के लिए एक न्यूनतम आयु को तय किया गया है अथार्थ कुछ देशो में या आयु 16 वर्ष तय की गई है लेकिन भारत सहित कुछ देशो में यह न्यूनतम आयु 18 वर्ष है

अथार्थ कानून के अनुसार अपनी इच्छा और सहमति से 18 वर्ष की उम्र के बाद बनाये गए संबंध पूर्ण रूप से स्वतंत्र होतें है लेकिन 18 वर्ष से कम उम्र में बनाये गए संबंध या उसका प्रयास पुरी तरह से अवैध होता है अथार्थ यह एक क़ानूनी अपराध है जो कि दंडनीय है अगर आप भारत के निवासी है

तो आपको यहाँ सहमति से बनाए गए शारीरिक संबंध से सम्बंधित कुछ क़ानूनी नियमो को समझना चाहिए

पहला – भारतीय दंड संहिता 1860 में, सेक्सुअल उत्पीडन, बलात्कार और अन्य सेक्सुअल अपराधो के लिए सजा का प्रधान किया गया है यहाँ ऐसा करने पर सख्त से सख्त सजा का प्रावधान है

दूसरा – सामाजिक न्याय और विकास मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देश में, सहमति का महत्व, शारीरिक संबंध बनाने से पहले समझाया गया है यहाँ सहमति को संबंध बनाने से पहले महत्वपूर्ण माना गया है

यहाँ कहा गया है कि शारीरिक संबंध बनाने से पहले शारीरिक सहमति के साथ साथ मानसिक सहमति होना भी बहुत जरुरी होती है क्योकि सहमति के अभाव में बनायें गए शारीरिक संबंध एक अपराध है

तीसरा – भारतीय साक्ष्य अधिनियम 1872 के अनुसार, शारीरिक संबंध बनाने से पहली अगर किसी व्यक्ति ने झूठी गवाही दी है तो उसको एक अपराधी माना गया है

चौथा – आप सभी को यह समझना होगा कि संबंधित उम्र, अथार्थ हमारे भारत देश में शारीरिक संबंध बनाने के लिए सबसे न्यूनतम आयु 18 वर्ष तय है लेकिन 18 वर्ष से कम उम्र में शारीरिक संबंध बनाना पूर्ण रूप से अवैध है

पांचवा – पोषण और संरक्षण के लिए बाल अधिनियम 2016, के अनुसार किसी भी बालिका से शारीरिक संबंध बनाना पूर्ण रूप से अवैध माना गया है

शारीरिक संबंध बनाने के नुकसान क्या है?

कुछ कपल्स ऐसे होतें है जो विभिन्न कारण से अपनी इस भागदोड़ भरी जिंदिगी में शारीरिक संबंध नहीं बना पाते है यहाँ कुछ लोग शारीरिक संबंध बनाने के नुकसान को सर्च करतें है लेकिन शारीरिक संबंध बनाने का कोई नुकसान नहीं होता है

लेकिन अगर आप अपने जीवन में शारीरिक संबंध नहीं बनाते है तो ऐसे में आपको कुछ नुकसान होतें है जिनके बारे में हमने नीचे आपको बताया है –

  • शारीरिक संबंध न बनाने से आपका इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होने लगता है
  • संबंध बनाने के दौरान कामोत्तेजना में कमी हो सकती है
  • आपके शारीर में संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबाडीज नहीं होतें है अथार्थ आपको कई तरह के संकरण होने का खतरा रहता है
  • ऐसा करने से पुरुषो को दिल के रोग की समस्या का खतरा मुख्य रूप से रहता है
  • मनुष्य के शरीर में तनाव और चिंता को कम करने वाले एंडोर्फिन और ऑक्सीटोसिन हार्मोन में कमी हो सकती है
  • शारीरिक संबंध न बनाने से महिलाओ के शरीर क्र जननांग का स्वस्थ ख़राब हो जाता है
  • संबंध न बनाने से महिलाओ को पीरियड्स के दौरान तेज दर्द की समस्या हो सकती है
  • लम्बे समय तक संबंध न बनाने से शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा में कमी हो सकती है

Read More Articles: – 

FAQ

किस उम्र तक महिलाओ में शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा रहती है?

लगभग 16 वर्ष की उम्र से ही महिलाओ में शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा उत्तपन होने लगती है यह 28 की उम्र तक अधिक रहती है जिसके बाद यह 35 की उम्र के बाद धीरे धीरे कम होने लगती है क्योकि इस उम्र के बाद महिलाओ के शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन कम होने लगता है

किस उम्र की लड़कियां शारीरिक संबंध बना सकती है?

भारत में शारीरिक संबंध बनाने की न्यूनतम उम्र 18 वर्ष है अथार्थ लड़कियां 18 वर्ष की उम्र को पूर्ण करने के बाद अपनी इच्छा और सहमति से शारीरिक संबंध बना सकती है लेकिन 18 वर्ष से कम उम्र में बनाये गए संबंध अवैध है यह एक दंडनीय अपराध है

लम्बे समय तक फिजिकल रिलेशन नहीं बनाने पर क्या होता है?

लम्बे समय तक फिजिकल रिलेशन नहीं बनाने पर ब्लड प्रेशर की समस्या, रिश्तो में दूरियां, तनाव और चिंता का बढ़ना, दिल के रोग की समस्या, रिश्ते में प्यार का कम होना, इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होना, आदि समस्या हो सकती है

संबंध बनाने Ke बाद क्या नहीं करना चाहिए?

संबंध बनाने Ke बाद कपल्स को तुरंत सोना नहीं चाहिए बल्कि कुछ समय एक दुसरे के साथ रहकर प्यार भरी बातें करनी चाहिए इसके साथ ही संबंध बनाने के बाद शरीर की सफाई में साबुन का उपयोग न करें

क्या पीरियड में संबंध बनाना चाहिए?

कुछ महिलाये ऐसा सोचती है कि उन्हें पीरियड के दौरान संबंध नहीं बनाने चाहिए लेकिन ऐसा नहीं है डॉक्टर्स और विशेषज्ञ के अनुसार अगर पीरियड के दौरान महिला की संबंध बनाने के लिए इच्छा है तो वह ऐसा कर सकती है इसमें कोई खतरा या परेशानी नहीं है

संबंध बनाने से पहले क्या करें?

जो लोग अधिक तनाव से घिरे हुए रहते है वह लोग संबंध बनाने से पहले अपने पार्टनर के साथ Forplay के ऊपर अधिक ध्यान दे सकते है ऐसे में आपको तनाव को साइड में करके एक गहरी साँस लेनी चाहिए

जिसके बाद आप अपने रिलैक्स शरीर और दिमाग के साथ Forplay से संबंध बनाने की प्रक्रिया को शुरू करें

संबंध बनाने Ke बाद क्या करना चाहिए?

संबंध बनाने के बाद आप दोनों को अपने प्राइवेट पार्ट को साफ़ करना चाहिए, अपने कोंडम की जाँच करनी चाहिए, हाथो को धोना चाहिए, पार्टनर के साथ कुछ प्यार भरे पल बिताने चाहिए, कुछ समय बाद पानी या फल का सेवन करें

क्या प्यार में फिजिकल होना जरुरी है?

शादी से पहले जब किसी अनजान लड़का और लड़की को प्यार होता है तो वह धीरे धीरे एक दुसरे के साथ मानसिक रूप से जुड़तें है लेकिन रिलेशन को मजबूत करने और रिश्ते में प्यार को बढाने के लिए शारीरिक रूप से जुड़ना भी महत्वपूर्ण होता है

यही कारण है कि जो लवर्स शारीरिक रूप से एक दुसरे के साथ नहीं जुड़ें होतें है उन दोनों के बीच में एक दुसरे के लिए कुछ ख़ास अटैचमेंट नहीं होतीं है

क्या शारीरिक संपर्क के बिना विवाह जीवित रह सकता है?

हाँ, यह संभव है कि शारीरिक रूप के बिना विवाह जीवित रह सकता है लेकिन ऐसे में शादीशुदा लोगो के बीच में प्यार और लगाव कम होने लगती है जिसके कारण उन दोनों में दूरियां बढ़ने की संभावना अधिक रहती है

आपने क्या सीखा

इस लेख में हमने अपने सभी यूजर को अपने जीवन में शारीरिक संबंध बनाने की उम्र और उससे सम्बंधित भारत के कानून के बारे में कुछ विशेष इनफार्मेशन को साधारण भाषा में बताया है

मुझे उमीद है कि आप सभी को शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र क्या है? के बारे में सब कुछ समझ आ गया होगा फिर भी अगर आपका कुछ सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में मुझसे पूछ सकते है

Credit By =itznitinsoni

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top